Yogi Adityanath Biography

By | December 19, 2021
Yogi Adityanath Biography योगी आदित्यनाथजीवन परिचय

Yogi Adityanath Biography योगी आदित्यनाथजीवन परिचय

Yogi Adityanath Biography योगी आदित्यनाथजीवन परिचय नमस्कार ! आपका स्वागत है हमारे आज के इस आर्टिकल में जहां हम आपको बताने वाले हैं हमारे देश के एक महत्वपूर्ण व्यक्तित्व के बारे में जिन्होंने अपनी मेहनत और शानदार परिवर्तन के बल पर काफी प्रसिद्धि एवं लोकप्रियता हासिल की है। हम बात कर रहे हैं योगी आदित्यनाथ की, जिसमें हम आपको बताने वाले हैं Yogi Adityanath biography in Hindi के बारे में। तो चलिए जानते हैं उनके जीवन के कुछ महत्वपूर्ण पहलू एवं उनके जीवन से संबंधित विशेष बातें –

योगी आदित्यनाथ कौन हैं? (Who is Yogi Adityanath?)

योगी आदित्यनाथ एक भारतीय हिंदू महंत और राजनेता हैं, जो 19 मार्च 2017 से उत्तर प्रदेश के 22 वें मुख्यमंत्री के रूप में कार्यरत हैं। भारतीय जनता पार्टी भाजपा मुख्यमंत्री पद के 2017 के वोट में जीतने के बाद योगी जी को 26 मार्च 2017 को मुख्यमंत्री पद हासिल हुआ था।

योगी आदित्यनाथ का प्रारंभिक जीवन (Early life of Yogi Adityanath)

योगी आदित्यनाथ वास्तविक नाम अजय बिष्ट है। इनके घर में माता-पिता सहित तीन भाई एवं एक बहन थी। उत्तराखंड के पेंचुर गांव में योगी आदित्यनाथ जी का अपना घर है, जहां उनके अपने लोग रहते हैं।योगी आदित्यनाथ के पिता का नाम आनंद सिंहबिष्टहै एवं उनकी मां का नाम सावित्री देवी है।योगी आदित्यनाथ के पिता एक फॉरेस्टरेंजर के रूप में जाने जाते थे।

योगी आदित्यनाथ का जन्म कब और कहां हुआ था? (When and where was Yogi Adityanath born?)

योगी आदित्यनाथ की जीवनी की बात करें तो सबसे पहला सवाल यह आता है कि योगी आदित्यनाथ का जन्म कहाँ हुआ था? बता दें पौड़ी गढ़वाल भारतीय राज्य उत्तराखंड का एक जिला है। इसका मुख्यालय पौड़ी शहर में है और यही पर योगी आदित्यनाथ जी का जन्म हुआ था। इसी के साथ दूसरा सवाल यह भी आता है कि योगी आदित्यनाथ का जन्म कब हुआ था? तो इसके जवाब में बता दें योगी आदित्यनाथ जी का जन्म उत्तराखंड में 5 जून 1972 को एक राजपूत परिवार में हुआ था। उनके पिता आनंद सिंह बिष्ट वन विभाग में कार्यरत थे।

योगी आदित्यनाथ का घर कहां है?(Where is the house of Yogi Adityanath?)

योगी आदित्यनाथ नाथ जी के संबंध में कहा जाता है कि जब इनकी आयु 21 वर्ष थी। तभी उन्होंने अपना घर छोड़ दिया था। इसी दौरान उन्होंने अपना नाम बदल दिया था और अजय बिष्ट से हटाकर योगी आदित्यनाथ रख लिया। योगी आदित्यनाथ का निवास गोरखपुर, उत्तर प्रदेश में है।

योगी आदित्यनाथ के प्रारंभिक शिक्षा (Early education of Yogi Adityanath)

उनकी प्रारंभिक शिक्षा पौड़ी और ऋषिकेश के स्थानीय स्कूलों में हुई। उन्होंने हेमवती नंदन बहुगुणागढ़वाल विश्वविद्यालय से गणित में स्नातक की डिग्री के साथ स्नातक किया था।अक्सर यह सवाल लोगों के मन में आता है कि योगी आदित्यनाथ क्या संपादक भी थे? तो बता दें योगी जी बहुत गुणी व्यक्ति हैं। नेता, महंत होने के साथ-साथ वह संपादक भी है। पत्रिका जैसे हिंदी साप्ताहिक और मासिक पत्रिका योगवाणी के वह मुख्य संपादक के रूप में कार्यरत हैं।योगी आदित्यानाथ जी की बहुत सारी पुस्तकें भी  प्रकाशित हुई है। जिनके नाम हैं:-‘यौगिक षट्कर्म’, ‘हठयोग: स्वरूप एवम साधना’, ‘हिंदू राष्ट्र नेपाल: अतित, वर्त्तमान एवं भविष्य’, ‘राजयोग: स्वरूप एवम साधना’।

योगी का कार्यकाल कब तक है? (How long is the tenure of Yogi?)

हर मुख्यमंत्री का कार्यकाल 5 साल तक के लिए ही होता है। ठीक उसी तरह से यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का कार्यकाल भी 5 वर्ष तक चलेगा। आने वाले चुनाव के दौरान यदि उन्हें फिर से भारी मतों के साथ वोट मिलती है तो वह आगे भी मुख्यमंत्री के पद पर रहेंगे।

योगी आदित्यनाथकी बहन (Yogi Adityanathsister)

जब बात उठती है योगी आदित्यनाथ के परिवार की तो लोगों का सवाल यह भी होता है कि योगी आदित्यनाथ की बहन (Yogi Adityanath sister) कौन हैं?तो जानकारी के लिए बता देंकिउत्तर प्रदेश राज्य के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की एक ही बहनहैं, जिनका नाम शशि देवी है। पाठकों को शशि देवी के बारे में सुनकर बहुत ही आश्चर्य चकित महसूस होगा। कारण कोई इस बात पर यकीन ही नहीं करेगा कि इतने बड़े मुख्यमंत्री की बहन शशि देवी बहुत ही आम जिंदगी जीती हैं।

शशि देवी ऋषिकेश की रहने वाली है। वहां पर वह मंदिर के सामने फूल, पकोड़े एवं प्रसाद बेचने का काम करती हैं। इन सभी कामों के साथ-साथ शशी जी उत्तराखंड के कोठारी में अपनी चाय की दुकान पर खुद ही चाय बेचती हैं।ऐसा करके उन्हें किसी भी प्रकार का दुख नहीं होता कारण उनका कहना है कि वह एक राजनीतिज्ञ की बहन कहलाकर लोगों के लिए कोई आकर्षण का केंद्र नहीं बनना चाहती हैं। वहअपने भाई से किसी भी प्रकार की सहायता ले कर अपने जीवन को विशेष बनाना नहींचाहती हैं। वह अपने तरीके से अपने जीवन को जीती है और उन्हें गर्व है कि वह अपने पैरों पर खड़ी हैं। वह भी बिना किसी के सहायता के।

योगी आदित्यनाथ कहां से विधायक हैं? (Where is Yogi Adityanath MLA from?)

वह 1998 से लगातार पांच बार गोरखपुर निर्वाचन क्षेत्र, उत्तर प्रदेश से संसद सदस्य रहे हैं। आदित्यनाथगोरखपुर में एक हिंदू मंदिर, गोरखनाथ मठ के महंत या मुख्य पुजारी भी हैं।

योगी आदित्यनाथ कितनी बार सांसद रहे?(How many times was Yogi Adityanath MP?)

आदित्यनाथ 26 साल की उम्र में 12वीं लोकसभा के सबसे कम उम्र के सदस्य बन थे। वे गोरखपुर से लगातार पांच बार (1998, 1999, 2004, 2009 और 2014 के चुनावों में) संसद के लिए चुने गए थे।

योगी आदित्यनाथ की सामाजिक और सांस्कृतिक गतिविधियाँ (Social and Cultural Activities of Yogi Adityanath)

सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर और पिछड़े बच्चों के लिए वह छात्रावास उपलब्ध कराते हैं। वह धार्मिक और सामाजिक परंपराओं और बुराइयों के खिलाफ जागरूकता बढ़ाते है।

वे दो दर्जन से अधिक शिक्षण संस्थान भी चला रहे हैं और ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने का काम कर रहे हैं। भारत की सबसे पुरानी ध्यान प्रणाली के केंद्र और नाथ पंथ के एक प्रमुख दार्शनिक संप्रदाय के केंद्र सहित कई आध्यात्मिक और सांस्कृतिक संगठन भी उनके द्वारा चलाया जाता हैं।

योगी आदित्यनाथ जी का राजनीतिक सफर (Political Journey of Yogi Adityanath)

1994- में योगी आदित्यनाथ को गोरखनाथ मठ के मुख्य पुजारी के रूप में नियुक्त किया गया था। चार साल बाद, वह भारतीय संसद के निचले सदन के लिए चुने गए। 12वीं लोकसभा में वे सबसे कम उम्र के सदस्य थे। वे लगातार पांच साल गोरखपुर से संसद के लिए चुने गए हैं। उन्होंने हिंदू युवा वाहिनी नाम से एक युवा विंग भी शुरू की।

1998 – सन् 1998 योगी आदित्यनाथ जी के जीवन का लकी वर्ष था। कारण उनको 12वीं लोकसभा के लिए चुने गया था और वह केवल  26 साल की उम्र में चुने जाने वाले सबसे कम उम्र के सदस्य थे।

1998-99- वह खाद्य, नागरिक आपूर्ति, सार्वजनिक वितरण समिति और चीनी और खाद्य तेल विभाग की उप-समिति-बी के सदस्य थे। साथ ही, गृह मंत्रालय की सलाहकार समिति के सदस्य भी हैं।

1999- वे 1999-2000 में दूसरे कार्यकाल में 13वीं लोकसभा के लिए फिर से चुने गए। वह खाद्य, नागरिक आपूर्ति और सार्वजनिक वितरण समिति के सदस्य भी थे। गृह मंत्रालय की सलाहकार समिति के सदस्य।

2004- उन्हें 14वीं लोकसभा के लिए फिर से चुना गया जो उनका तीसरा कार्यकाल है। वे सरकारी आश्वासनों की समिति के सदस्य, विदेश मामलों की समिति के सदस्य, गृह मंत्रालय की सलाहकार समिति के सदस्य भी थे।

2009- योगी जी का वर्ष 2009 में चौथा कार्यकाल था। जिसमें वह 15वीं लोकसभा चुनाव  के लिए फिर से चुने गए थे। जीतने के बाद उनको परिवहन, पर्यटन और संस्कृति संबंधी समिति का  सदस्य बनाया गया था।

2014- वर्ष 2014 साल में योगी आदित्यनाथ जी फिर से पांचवें कार्यकाल के लिए चुने गए थे। उनको गोरखपुर निर्वाचन क्षेत्र से 16 वीं लोकसभा पद के लिए फिर से चुने गया था।

2017- में, वह उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में एक प्रमुख भाजपा प्रचारक थे। भाजपा के विधानसभा चुनाव जीतने के बाद, 2017 में, वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। सत्ता में आने पर उन्होंने उत्तर प्रदेश के सरकारी कार्यालयों में गो तस्करी, तंबाकू, पान और गुटखा पर प्रतिबंध लगा दिया। उन्होंने राज्य में एंटीरोमियोस्क्वॉड का भी गठन किया। जिसके तहत 100 से ज्यादा पुलिसकर्मियों को सस्पेंड भी किया गया था।

योगी आदित्यनाथ जी की विशेष रुचि (Special interest of Yogi Adityanath)

योग और अध्यात्म में उनकी विशेष रुचि है। वह गोरक्षा के लिए प्रचार-प्रसार करते हैं। वह सामाजिक और राष्ट्रीय सुरक्षा, बागवानी, धार्मिक प्रवचन, भजन और धार्मिक स्थलों की यात्रा के लिए राष्ट्र रक्षा अभियान भी चलाते हैं। इनका व्यक्तित्व मेहनती और काम के प्रति समर्पित है। पिता के निधन की खबर मिलने के बाद भी उन्होंने कोर ग्रुप के अधिकारियों के साथ कोविड-19 पर बैठक जारी रखी और करीब 45 मिनट में इसे पूरा करने के बाद उठें।

निष्कर्ष (Conclusion)

हम आशा करते हैं कि आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी क्योंकि यहां हमने योगी आदित्यनाथ जी के बारे में योगी आदित्यनाथ की जीवनी (Biography of Yogi Adityanath in Hindi) और उनके जीवन से संबंधित विभिन्न पहलुओं से आपको अवगत करवाया है। इसके माध्यम से आपको योगी आदित्यनाथ के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो गई होगी। साथ ही साथ उनके प्रारंभिक जीवन से लेकर अब तक के राजनीतिक सफर के बारे में भी आपने इस आर्टिकल में जाना। यदि आप किसी अन्य व्यक्तित्व के बारे में जानना चाहते हैं तो हमें कमेंटबॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं, हम आपके लिए ऐसे ही आर्टिकल लेकर आएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *